The Law of Attraction (आकर्षण का नियम) The Secret
The Law of Love (प्यार का नियम) The Power
आकर्षण का नियम सबसे ज्यादा famous जब हुआ जब Australia से Rhonda Byrne नामक लेखिका ने एक बुक लिखी जिसका नाम है The Secret जो 6 November 2004 को publish की गयी, जो 44 भाषाओ में publish की गयी, और इतनी famous हुई की year 2009 तक ही 2 करोड़ से ज्यादा लोगो द्वारा दुनिया भर में पढ़ी गयी..
क्या है आकर्षण का नियम according to The Secret Book – अगर आप किसी से इस बारे में पूछेंगे की आकर्षण का नियम क्या है ? तो आपको जवाब मिलेगा कि इसमें बताया गया है इस दुनिया का कोई भी इंसान कुछ भी बनना चाहता है या पाना चाहता है तो उसको अपनी पसंद की उस चीज की एक मानसिक छवि बनानी चाहिए और फिर प्रकृति अपना करिश्मा दिखाएगी और बिना कुछ किये ही वह चीज आपको मिल जाएगी मगर आपको यह अभ्यास बार बार दोहराहना पड़ेगा।।

लेकिन सवाल ये उठता है क्या ये सही है ?
अगर आपने भी इतना ही समझा है तो फिर यह गलत है, कुछ लोग इस किताब को कुछ अलग ही तरह से प्रस्तुत कर रहे है जबकि उस किताब में कहीं पर भी इस तरह से नहीं समझाया गया है की आपको कुछ करना ही नहीं पड़ेगा, उसमे साफतौर पर बताया गया है कि आपको अगर कोई विचार आये अपनी पसंद की चीज को पाने से रिलेटेड तो उस पर आपको काम भी करना है..
किताब में कोई भी ऐसी बात नहीं बताई गयी जो गलत हो, हमारे दिमाग में सचमुच बहुत पावर्स है इससे भी कहीं ज्यादा है और इसको सिर्फ एक किताब के माध्यम से समझा या बताया नहीं जा सकता।। यानी कुल मिलाकर किताब अपनी जगह सही है तो फिर गलती कहाँ है ? आगे पढ़ते है –

क्या है प्यार का नियम according to The Power
जब लोगो ने The Secret Book को गलत तरीके Follow किया तब एक किताब और लिखी गयी The Power, इसमें The Law of Love बताया गया, इसमें उसी बात को अलग तरह से समझाया गया, 17 August 2010 को पब्लिश की गयी यह बुक भी इतनी ही फेमस हुई ,
जो लोग पहली किताब के फॉर्मूले पर चल कर असफल हो रहे थे उन्हें इस किताब से थोड़ी मदद मिली, क्योंकि लोग पहली किताब के अभ्यास तो कर रहे थे मगर खुद को नहीं बदल रहे थे, क्योंकि उन्होंने केवल इतना ही सीखा था की रोज आँख बंद करके अभ्यास करना और फिर जो तुम चाहोगे मिल जायेगा।। मगर खुद वैसे के वैसे ही बने रहे, खुद को बिलकुल भी नहीं बदला..
दूसरी किताब से लोगो ने चीजो से प्यार करना सीखा, उन्होंने सीखा की जो चीज हमें चाहिए और अगर वह किसी और के पास भी है तो उससे चिडो मत, जैसे पैसा, गाडी, घर,
उसे प्यार से देखो, मुस्कुराओ और अच्छा महसूस करो. . अपने काम से प्यार करो, खुद से प्यार करो वगेरह वगेरह।
इससे लोगो को प्यार करना आया और चीजो को देखने का नजरिया बदला,
Negative effects
लेकिन दोनों ही किताबो से लोगो के सोचने का थोड़ा तरीका तो बदला मगर चंद लोगो को छोड़कर किसी की भी जिंदगी में कोई चमत्कार नहीं हुआ जिसकी वे आशा कर रहे थे, बल्कि कुछ लोग तो और भी ज्यादा टूट गए, हार गए, जब उन्हें लगा की इतनी बड़ी पावर भी जब उन पर काम नहीं कर रही तो फिर उसका कुछ नहीं हो सकता, लोग निराश हो गए, भूल गए फिर दोनों ही बाते The Law of Attraction औरThe Law of Love और जीने लग गए उसी तरह से अपनी जिंदगी

गलती किसकी ?
किसी की भी नहीं, किताब की कोई गलती नहीं उसने जो भी समझाया अच्छा समझाया, दोनों ही किताबे जबरजस्त है, कोई कमी नहीं किताब में उसके Formulas में,
और गलती आपकी भी नहीं क्योंकि जब मस्तिष्क को और उसकी पावर्स को हज़ारो साल से आज तक कोई नहीं समझ पाया तो आपको क्या लगता है 2-4 किताबे पढ़कर आप उसे पूरी तरह से समझ जाओगे ?

Reality of Both by Rohit Nain
Law किसे कहते है? किसे कहते है सिद्धांत ?
सिद्धांत- जिसे बदला नहीं जा सकता है, जो है, था, और रहेगा, जैसे आग में हाथ डालोगे तो वो जलेगा ही , अब चाहे वो आग पेट्रोल से जली हो, कागज से जली हो या लकड़ी से जली हो, चाहे वो आग घर के अंदर हो, चाहे बाहर हो, चाहे छत पर हो, कहीं पर भी हो और कैसे भी जली हो अगर आग में हाथ डाला तो जलेगा ही..
या जैसे पानी- हाइड्रोज़न और ऑक्सीज़न सही मात्रा में जब भी मिलाओगे जहाँ भी मिलाओगे पानी ही बनेगा, दूध कभी नहीं बनेगा
यह है सिद्धांत या Law
और ऐसे ही है The law of attraction ya The law of love
और यहाँ लोग सबसे बड़ी गलती यही करते है की ऑक्सीज़न और हाइड्रोजेन मिलाने लग जाते है बिना सही जानकारी के और इसीलिए पानी कभी बनता, सही मात्रा है H2O ,
जब तक यह नही करोगे पानी नहीं बनेगा, लेकिन अपनी कमी ढूंढने के बजाय लोग सिद्धांतो में कमी निकIलने लगते है
The Law of Attraction काम करता है मगर कैसे और किन लोगो पर आओ जाने –
पहला सबक – आप जो पाना चाहते है, उस पर आपको यकीन होना चाहिए, यानी के आपको सालभर में १ करोड़ कमाना है मगर आपको खुद ही यकीन नहीं कि आप उस लायक हो भी या नहीं, तो आपको सिर्फ निराशा ही हाथ लगेगी
अब यहाँ एक पेंच है- ज्यादातर को यही लगता है हाँ वो इस लायक है, मगर अब ये कैसे जाना जाए की हमे अपनी पसंद की चीज पाने के लिए किस लेवल के यकीन की जरूरत है ?
मान लेते है आप कोई जॉब करते है और सालभर में 2 लाख कमाते है और आपने खूब सोचा मगर आप अपनी जॉब कभी भी छोड़ नही सकते और नया काम शुरू नहीं कर सकते,

या आप एक स्टूडेंट है, और बस फ़िलहाल पढ़ाई कर रहे है और आपने आज तक कुछ नहीं कमाया , या आप एक हाउस वाइफ है और आपने कभी कुछ नहीं कमाया और जॉब आप करती नही एवं अपना काम शुरू कर नहीं सकती, तो ऐसे में साल भर में १ करोड़ कमाना सिर्फ एक ख्याल ही बनके रह जायेगा।
इसलिए फ़िलहाल आप ऐसा कुछ सोचे, ऐसा कुछ गोल सेट करें जिसको पाने में आपको ३०% चांस लग रहे हो… फिर आप अभ्यास करें आप जरूर सफल होंगे
यह टारगेट उनका सफल होगा जो बिज़नेस करते है जो १० लाख कम रहे है , जिनकी इनकम १ करोड ही नहीं ५ करोड़ भी हो सकती है , मगर खूब मेहनत करके भी हो नहीं पा रही है, वे लोग ऐसा टारगेट बनाकर काम करें, जरूर सफल होंगे
दूसरा सबक –
अच्छे रिश्ते बनाने के लिए इन अभ्यासों का यूज़ करने से पोसिटिव रिजल्ट मिलेगा, रिश्ते सुधरेंगे ये एकदम सच है
तीसरा सबक –
जहाँ कम्पटीशन ज्यादा हो और आप भी वहां लाइन में खड़े हो, जैसे कोई जॉब प्राप्त करनी है लेकिन और भी बहुत से लोग चाहते है की वो जॉब उन्हें मिले तो ऐसे में सभी लोग जाने अनजाने में यही छवि देख रहे है की जॉब उन्हें ही मिलेगी, उन्हें ही मिलेगी
तो ऐसे में भी चांस बहुत कम है
चौथा सबक –
ये चीजे तब काम करती है जैसे मान लो किसी जॉब में आपको सेलेक्ट होना है और Selector को आप जानते हो, क्योंकि उस व्यक्ति की छवि आपके मन में बनना बहुत जरूरी है फिर एक अभ्यास होता है जिसे टेलीपैथी कहते है, उसके थ्रू आप उस व्यक्ति को मानसिक रूप से suggest कर सकते है की वो आपको ही चुने, ये जरूरी है, सिर्फ जॉब लगने की तस्वीर देखना ही काफी नही है
पांचवा सबक –
एक छोटा बच्चा अपनी कल्पना शक्ति से कुछ नही पा सकता, क्योंकि वो अभी छोटा है और किसी भी अभ्यास को सफल बनाने के लिए कोई न कोई स्टेप तो लेना ही पड़ता है और वह कोई स्टेप नही ले सकता, वो खुद में कुछ चेंज लाना चाहे तो वो काम अच्छे से हो सकता है, जैसे कोई आदत बदलना, पढ़ाई या किसी खेल में आगे निकलना वगेरह वगेरह…

छठवाँ सबक
माइंड पावर एक बहुत बड़ी पावर है उसको सिर्फ एक दो किताब पढ़कर या एक दो आर्टिकल पढ़कर नहीं सीखा जा सकता, मैं फिर से दोहरा रहा हूँ,
सबसे ज्यादा जरूरी होता है ह्यूमन बिहेवियर सीखना, इससे बड़ा सब्जेक्ट और इससे जरूरी चीज इस दुनिया में कोई नहीं, क्योंकि इसको सीखना आसान भी है और घर बैठे सीखा जा सकता है। और यह दुनिया की हर सफलता आपको दिलI सकता है

माइंड बहुत ही पेचीदा सॅब्जेक्ट है इसके द्वारा हर काम आसान किया जा सकता है हर मनचाही चीज पायी जा सकती है, मगर यह इतना आसान नहीं जितना आसान इसे समझा जाता है,
अगली पोस्ट में मैं माइंड पावर के बारे में बहुत ही दिलचस्प ब्लॉग लिखने वाला हूँ उससे आपको एक्चुअल पता चल जायेगा माइंड कितनी बड़ी पावर है और उससे आप क्या कुछ कर सकते है,

कुछ भी जानने के लिए मुझे कमेंट करें और Rohit Nain Youtube Channel ko subscribe करें, धन्यवाद।।